15 जुलाई 2022

बाजार का विश्लेषण

तेल अनुबंध ट्रेड करने से लेकर ईंधन के मूल्यों को हेज करने तक

oil price v fuel price
oil price v fuel price

इतिहास में पहली बार किसी कार में पंप पर ईंधन भरना सबसे ज़्यादा महँगा हो गया है, जिसके कारण करोड़ों लोगों के जीवन की गुणवत्ता पर असर पड़ा है, लेकिन खुदरा निवेशकों के पास बढ़ती तेल कीमतों और ईंधन की कीमतों से निपटने की रणनीति है। आइए तेल के तकनीकी पहलू पर नज़र डालें और फिर 2022 और इसके आगे, तेल में ट्रेड करने के एक बड़े अच्छे कारण पर विचार करें।

तेल का तकनीकी विश्लेषण

तकनीकी विश्लेषण दिखाता है कि यूएस तेल $106.25 के मूल्य के पार चला गया, वहाँ रीटेस्ट किया और फिर $100 के नीचे आ गया।

ट्रेंड ब्रेक लाइन के साथ क्रूड तेल 2022 मूल्य इतिहास
ट्रेंड ब्रेक लाइन के साथ क्रूड तेल 2022 मूल्य इतिहास

इस समय $94.50 - $102 मूल्य सीमा के बीच चल रहा यूएस तेल 50% - 38.2% की फ़िबोनाची रीट्रेसमेंट रेंज के बीच चल रहा है और 38.2% के निशान पर इसे तेज़ प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है। अगर यह हालिया गिरावट जारी रहती है, तो हम देख सकते हैं कि तेल की कीमतें समर्थन 2 तक नीचे जा सकती हैं।

फ़िबोनाची रीट्रेसमेंट के साथ क्रूड तेल 2022 मूल्य
फ़िबोनाची रीट्रेसमेंट के साथ क्रूड तेल 2022 मूल्य

इसलिए हो सकता है कि तेल बहुत ज़्यादा खरीदा जा रहा हो और इसका मूल्य अधिक हो, जिसके कारण यह कमी का अवसर पैदा करता है, लेकिन दीर्घकालिक ट्रेंड कुछ और इशारा करते हैं। मौजूदा मूल्य स्थिति को देखते हुए, इस समय तेल ट्रेड करना एक जोखिम भरा काम हो सकता है।

तेल ट्रेडिंग के मूल सिद्धांत

आम हेज फ़ंड पंप और डंप के बाहर, युद्ध और कॉर्पोरेट लाभ आज की तेल कीमतों पर सबसे ज़्यादा प्रभाव डालने वाले दो बड़े कारक हैं। आपूर्ति और माँग के डायनामिक अस्थिर हैं और दूर-दूर तक इनके शांत होने या स्थिर होने की संभावना नहीं दिख रही है। 

इस अनिश्चितता के अलावा, वैश्विक तेल उत्पादकों ने पिछले 12 महीनों में उत्पादन को बहुत कम कर दिया है, जिसके कारण एक कृत्रिम कमी आ गई है। तेल एक्सट्रैक्ट करने में कमी करने का आदेश सीधे बड़ी तेल कंपनियों से ही आया है। एक से अधिक तेल रिफ़ाइनरी ने पंपिंग मात्रा को बिना कारण कम कर दिया है, जिसके कारण यूनाइटेड स्टेट्स, अधिकतर देश और हर जगह के ड्राइवर परेशान हैं।

पिछले हफ़्ते, यूएस राष्ट्रपति जो बाइडन ने माँग रखी है कि बड़ी तेल कंपनियाँ यह कारण बताएँ कि उन्होंने बाज़ार को स्थिर रखने के लिए उत्पादन मात्रा क्यों नहीं बढ़ाई है, हालाँकि हर किसी को यह बात पता है कि इसका कारण अल्प-कालिक बढ़ा हुआ लाभ कमाना है।

"युद्ध के समय, रिफ़ाइनरी के सामान्य से अत्यधिक लाभ मार्जिन का भार सीधे अमेरिकी परिवारों पर जाता है, जो कि अस्वीकार्य है,"  तेल कंपनियों को लिखे गए हालिया पत्र में यूएस राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा।

लेकिन पंप पर केवल अमेरिकी लोगों को ही झटका नहीं लग रहा। सारे विश्व ने ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी देखी है, जिसके कारण बेरोज़गारी में बढ़ रही है और वैश्विक खुदरा बिक्री में गिरावट आ रही है। हालाँकि तेल कंपनियाँ बड़े लाभ कमा रही हैं, लेकिन विश्व एक और आर्थिक मंदी से बचने की कोशिश कर रहा है।

सारे वित्तीय जगत में हाहाकार मचा हुआ है, लेकिन शायद रिटेल ट्रेडर्स के पास मुद्रास्फ़ीति से बचने का तरीका है।

ईंधन की कीमतों को ऑफ़सेट करने के लिए तेल फ़्यूचर्स अनुबंध का ट्रेड करना

इसे ईंधन की हेजिंग कहते हैं और इसे ज़्यादातर ईंधन का इस्तेमाल करने वाली बड़ी कंपनियाँ अपनाती हैं, जैसे कि एयरलाइन्स, शिपिंग और हॉलेज कंपनियाँ। वे ऐसा कई सालों से करती आई हैं, लेकिन इसी मूल्य प्रक्रिया का इस्तेमाल न सिर्फ़ कंपनियों बल्कि व्यक्तियों द्वारा भी किया जा सकता है।

अगर आप तेल पर खरीद स्तर खोलते हैं और मूल्य बढ़ता है, तो संभवतः ईंधन की कीमतें भी बढ़ेंगी। पंप पर आपको नुकसान होगा, लेकिन अपने ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म पर आपको लाभ होगा। इसी तरह से, अगर तेल और पेट्रोल की कीमतें गिरती हैं, तो आपके ट्रेड नकारात्मक परिणाम देंगे, लेकिन आपको पंप पर फ़ायदा होगा - जिससे आपको ईंधन भरवाते समय बचत होगी।

क्रूड तेल और ईंधन के मूल्यों की 5 वर्षों की तुलना
क्रूड तेल और ईंधन के मूल्यों की 5 वर्षों की तुलना

ईंधन की कीमतों को हेज करना शुरू करते समय, पहले अपने औसत साप्ताहिक ईंधन इस्तेमाल की गणना करें। अगर ईंधन की कीमत $0.10 बढ़ती है, तो इसके कारण आपकी कितनी लागत बढ़ेगी? अब अपने ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म पर जाएँ और यह गणना करें कि ईंधन के मूल्यों में इस बढ़ोतरी को ऑफ़सेट करने हेतु लाभ कमाने के लिए आपको कितना यूएस तेल खरीदना होगा।

थोड़े समय के मूल्य विलंब को ध्यान में रखें, क्योंकि गैस स्टेशन अपने ईंधन मूल्यों को टैंकर के लिए किए गए भुगतान के आधार पर निर्धारित करते हैं, न कि मौजूदा बाज़ार के आधार पर। आप नियमित आधार पर ऑर्डर्स खोल सकते हैं और बंद कर सकते हैं, लेकिन अगर आप कभी-कभी ऑर्डर्स को ओवरनाइट खुला रखते हैं, तो Exness आपसे स्वैप फ़ीस नहीं लेगा।

क्या यह कोई अचूक रणनीति है? नहीं… बिल्कुल नहीं। बाज़ार हमेशा से ही अनिश्चित रहे हैं, हालाँकि, अगर आपने अपनी गणनाएँ ठीक रखी हैं, तो केवल तेल और पंप की कीमतों में अंतर के कारण आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और पिछले 30 वर्षों में ऐसा कभी नहीं हुआ है।

अंतिम बात

पिछला प्रदर्शन कभी भी भविष्य के परिणामों की गारंटी नहीं देता है, इस बात को ध्यान में रखते हुए, तकनीकी यह नहीं कहती कि यही समय खरीदने और बेचने का है। हमेशा की तरह, बाज़ार हमेशा निश्चित रूटीन का अनुसरण करते हैं… जब तक कि ऐसा होना बंद न हो जाए। चाहे आप किसी भी संपत्ति का ट्रेड करें, कभी न कभी अचंभित होना ही पड़ता है, इसलिए ज़िम्मेदारी से ट्रेड करें और सावधानी से अपने फ़ंड प्रबंधित करें। ईंधन की कीमतों को हेज करना अभी के लिए काम कर सकता है, लेकिन अगर हर कोई ऐसा करेगा, तो हमें इतिहास में पहली बार तेल कीमतों और ईंधन की कीमतों में मूल्य विचलन दिखाई दे सकता है।

स्टॉप लॉस को सक्रिय मूल्य सीमा के नज़दीक सेट करना याद रखें, खासतौर से जब आप Exness के उच्च लिवरेज का लाभ उठा रहे हों।

संबंधित लेख