30 मई 2022

बाजार का विश्लेषण

2022 में धातुओं की कीमतें बढ़ रही हैं

बड़े निवेशकों के लिए एक समय सुरक्षित और फ़ायदेमंद रहने वाला यह क्षेत्र अब एक समस्या की तरह हो गया है, जिसका व्यवहार क्रिप्टोकरेंसी के समान है। और अब बड़ी खबर यह है कि लंदन के बाज़ार से रूसी धातुओं को हटा दिया गया है। इससे किन धातुओं पर असर पड़ेगा, यह स्पष्ट है और ट्रेडर्स पहले से ही रणनीतियाँ बना रहे हैं। आइए 4 सबसे लोकप्रिय ट्रेड करने योग्य धातुओं पर एक नज़र डालें और इस बात का अनुमान लगाएँ कि आने वाले महीनों में क्या उम्मीदें की जा सकती हैं।

पैलेडियम की ट्रेडिंग

पैलेडियम की इतनी वैश्विक माँग क्यों है? पैलेडियम गाड़ियों के उत्पादन का एक अत्यावश्यक घटक है। दुनिया में हर एक कार निर्माता, उत्सर्जन कम करने के लिए कैटेलिक कन्वर्टर में इसका इस्तेमाल करता है।

पैलेडियम एक दुर्लभ धातु है, जिसकी केवल कुछ ही स्थानों पर माइनिंग की जाती है और रूस शायद दुनिया का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। वास्तव में, दशकों से रूस पैलेडियम की दुनियाभर की मांग के 40% भाग की आपूर्ति करता रहा है, लेकिन हाल ही के प्रतिबंधों के चलते सप्लाई चेन में बाधा आई है और हमें बाज़ार में इसकी कमी की शुरुआत दिखने लगी है।

फ़रवरी के अंत में, शुरूआत में अनुमान लगाने वालों को धातु की अपेक्षित कमी का डर लगा और इससे घबराहट में खरीदारी हुई, जिससे पैलेडियम उछलकर $3294 प्रति आउंस तक पहुँच गया। सिर्फ़ 8 दिनों में 40% का भारी उछाल। 9 मार्च को, निवेशकों ने इसे अब तक के सबसे ऊँचे स्तर पर लाकर छोड़ दिया, जिसके कारण इस मूल्यवान धातु की कीमत $2000 के नीचे गिर गई।

तब से, डर से जुड़ी अस्थिरता और अनिश्चितता के चलते बड़ी मात्रा में होने वाली अवसरवादी ट्रेडिंग में कमी आई है, लेकिन आने वाले महीनों में हम पैलेडियम की कीमत में दीर्घकालिक वृद्धि की संभावना देख रहे हैं। दुनिया आसानी से किसी दूसरे पैलेडियम आपूर्तिकर्ता का रुख नहीं कर सकती, जिसे अब तक अनदेखा किया गया था, तो बस अपनी आँखें XPDUSD पर जमाए रखें।

प्लेटिनम की कीमत में उछाल

बढ़ती हुई माँग की वजह से प्लेटिनम बहुत ही मूल्यवान पदार्थ है। और यह भी एक ऐसी कच्ची धातु है, जो जारी संघर्ष से प्रभावित हुई है, क्योंकि रूस दूसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। पूरी दुनिया के लगभग 50% प्लेटिनम का इस्तेमाल कैटेलिक कन्वर्टर के निर्माण में इस्तेमाल किया जाता है। अब वैश्विक ट्रेडिंग मार्केट में रूसी सामग्री के स्वीकार न किए जाने की वजह से, प्लेटिनम की कीमतों में बढ़त होने की उम्मीद करना गलत नहीं है, क्योंकि बढ़ती कमी आपूर्ति/माँग की गतिशीलता को प्रभावित करती है। XPTUSD को अपनी वॉचलिस्ट में जोड़ें और लंबी अवधि की भविष्यवाणी करना शुरू करें।

सोने और चाँदी की असंगति

फ़रवरी के अंत में, सोने की कीमत में लगातार वृद्धि हो रही थी। अचानक, 4 मार्च को कीमत में उछाल आया और 9 मार्च को ये अपने सबसे उच्च स्तर तक पहुँच गया, लेकिन फिर अगले ही दिन से एक हफ़्ते तक इसमें लगातार गिरावट आई। मुख्यधारा की मीडिया ने इसकी भविष्यवाणी नहीं की थी और वह आज भी इसका कारण नहीं समझा सकता।

कुछ फ़ाइनेंसर दुनियाभर में हो रहे मीडिया प्रचार पर उच्च मात्रा में पूँजीकरण की ओर इशारा करते हैं, जिसके कारण यूरोपीय संघ की मुद्रा के अस्थिर होने की आशंका पैदा हुई। ऐसा मानना है कि हेज फंड मैनेजर और मोटे निवेशक उस सप्ताह के सट्टा मीडिया प्रचार पर कूद गए और पहले से तेज़ी पकड़े हुए सोने के ट्रेंड को और ऊँचा बढ़ा दिया, जिससे वह $2058 प्रति आउंस के स्तर पर पहुँच गया। बड़े निवेशकों के पैसा निकालने से हड़बड़ी में होने वाली बिक्री तेज़ हो गई और सोना एक सप्ताह से कम समय में 6% गिरकर $1910 पर आ गया।

अब जबकि भय और हाइप की मात्रा कम हो गई है, सोना अपने सामान्य रूप में वापस व्यवसाय में लौट आया है, जबकि चाँदी हमेशा की तरह इसका अनुसरण कर रही है। यहाँ ध्यान देने वाली मुख्य बात यह है कि चाहे राजनीतिक परिस्थितियाँ कुछ भी हों, XAUUSD अस्थिर हो सकता है और शायद उतना ही अप्रत्याशित रहेगा, जितना 2022 में अब तक रहा है।

सारांश

अगर किसी भी उच्च माँग वाली कोमोडिटी की सप्लाई चेन में कमी आती है, तो ज़ाहिर है कि कीमतों पर असर पड़ेगा। यह बाज़ार का स्वभाव है। रूस पर लगे प्रतिबंधों और रोक का निश्चित तौर पर प्लेटिनम और पैलेडियम की आपूर्ति पर और इस कारण कीमतों पर असर पड़ेगा, लेकिन सोने और चाँदी की कीमतों के सामान्य से बाहर जाने की तब तक कोई वजह नहीं है, जब तक कि कोई और प्रचार तर्कहीन ट्रेडिंग व्यवहार को बढ़ावा न दे। इसके लिए नज़र रखे रहें!

हमें पहली बार मूल्यवान धातुओं की कीमतों में महत्वपूर्ण अंतर भी दिखाई दे सकता है, इसलिए आने वाले महीनों में चार बड़ी धातुओं पर अपनी नज़रें जमाए रखें।

संबंधित लेख